Inquiry

आई.वी.ऍफ़ ट्रीटमेंट

आई.वी.ऍफ़ ट्रीटमेंट (टेस्ट ट्यूब बेबी ) के बारे में कुछ महत्वपूर्ण सवाल :

1. क्या होता है आइ.वी.एफ ( इन विट्रो फर्टिलाइजेशन) ? कृत्रिम गर्भाधान की इस तकनीक का नाम है आइ.वी.एफ ( इन विट्रो फर्टिलाइजेशन ) जिसे टेस्ट ट्यूब बेबी या परख नली शिशु भी कहते हैं


2. आइ.वी.एफ ( इन विट्रो फर्टिलाइजेशन / कृत्रिम गर्भाधान टेस्ट ट्यूब बेबी कैसे होता है)?

आइ.वी.एफ की तकनीक नि:संतान दंपतियों के लिए एक वरदान है, इस तकनीक के जरिए महिला में कृत्रिम गर्भाधान किया जाता है.


3. आइ.वी.एफ ( इन विट्रो फर्टिलाइजेशन / कृत्रिम गर्भाधान ) से जुड़ी क्या महत्वपूर्ण बातें होती हैं?


• यह तकनीक नि:संतानता से बेबस महिलाओं एवं पुरुषो के लिए काफी उपयोगी है.


• इसमें निषेचि अंडे (एम्ब्रियो या बिम्ब) को महिला के गर्भाशय में रखा जाता है.


• इसका प्रयोग वे महिलाएं भी कर सकती हैं जिनकी रजोनिवृत्ति हो चुकी है.


• इस तकनीक में महिला के अंडाशय से अंडे को निकालकर उसका संपर्क द्रव माध्यम में शुक्राणुओं से कराया जाता है.


• महिला को हार्मोन सम्बंधी इंजेक्शन दिए जाते हैं ताकि उसके शरीर में अधिक अंडे बनने लगें.


• इसके बाद अंडाणुओं को अंडकोष से निकाला जाता है और नियंत्रित वातावरण में महिला के पुरुष के शुक्राणु से उन्हें निषेचित कराया जाता है. इसके बाद निषेचित अंडाणु को महिला के गर्भाशय में स्थानांतरित किया जाता है.


4. कब करवाना चाहिये आइ.वी.एफ ( कृत्रिम गर्भाधान ) ?


• जब सारी गर्भ धारण के सारे तरीके असफल हो जाए, तब आइ.वीएफ ( कृत्रिम गर्भाधान ) का उपयोग करना चाहिए.


• अगर आप संतान के लिए 2 साल से भी ज्यादा समय से प्रयास कर रही हैं या फिर आपकी ट्यूब ब्लॉक हो चुकी है या फिर पुरुष का र्स्पम (शुक्राणु ) काउंट बिल्कुल कम है, उन्हें यह ट्रीटमेंट करवाना चाहिए.


• अगर आप 30 वर्ष की आयु पार कर चुकी हैं या अपने 40 वें साल के नजदीक हैं तो आइवीएफ ( कृत्रिम गर्भाधान ) के बारे में फैसला जल्द लेना चाहिए.


• यह तकनीक पुरूष नपुंसकता दूर करने में भी सहायक है.


• अगर आपकी ट्यूब ब्लॉक हैं? तो आप सर्जरी या फिर माइक्रो सर्जरी करवा सकती हैं जो कि ब्लॉकेज (रूकावट ) को साफ कर देता है.

• अगर आपके पति के र्स्पम (शुक्राणु ) काउंट कम हैं तो आप आइवीएफ ना करवा कर आर्टिफीशियल इनसेमिनेशन (IUI) करवा सकती हैं. इसका खर्चा भी आइ.वी.एफ से बहुत कम होता है.


5. अपर्याप्त संख्या नि:संतानता के प्रमुख कारण क्या होते हैं?


• हार्मोन असंतुलन, नलिकाओं में रुकावट या फिर शुक्राणु न होना व इनकी अपर्याप्त संख्या नि:संतानता के प्रमुख कारण हैं.

6. आई.वी.एफ प्रक्रिया के दौरान किन सेल्स की आवश्यकता होती है?


• आई.वी.एफ प्रक्रिया के दौरान एक स्वस्थ अंडाणु, निषेचित करने वाले शुक्राणु और गर्भाशय की आवश्यकता होती है.

7. आई.वी.एफ की सफलता दर क्या है? आईवीएफ की सफलता दर 50-70 % होती हैं, उम्र बढ़ने के साथ आई.वी.एफ की सफलता दर भी कम होती जाती है.


8. आई.वी.एफ की सफलता दर किन बातों पर निर्भर होती है? आई.वी.एफ की सफलता दर आपके स्वास्थ, नि:संतानता के कारण, उम्र, और आपके डॉक्टर की योगिता पर निर्भर होती है.


Why Choose Us
Initial Consult
Couple visit Indira IVF center for Consultation and tests.
Pregnancy Test
After 2 weeks of embryo implantation, a pregnancy test is done to test whether woman is pregnant or not.
Fertilization
Eggs and Sperms are brought in contact in controlled lab environment for fertilization to occur. Embryos are formed as a result of fertilization.
Trigger Shot
A final trigger shot is given for maturation of eggs before retrieval.
Growth Monitoring
The egg growth is monitored on daily basis through ultra sound.
Ovarian Stimulation
Female partner is provided with medications to stimulate ovaries for producing better quality and quantity of eggs.
Sperm Retrieval
Sperm sample from male partner is retrieved through ejaculation or through TESA/PESA Procedure.
Embryo Implantation
After 3 to 5 days of Fertilization, embryo(s) is/are implanted to females Uterus where it attaches it self to the uterine lining for pregnancy to occur.
Best Discovery Tool
We provide information of over 5000 Fertility Hospitals & Doctors for IVF, IUI, ICSI, Pregnancy, Sexologists and Surrogacy Treatments.
Egg Retrieval
Eggs are Retrieved from woman's ovaries under sedation.
Inital Screening
Sperm analysis of male partner where as female reproductive system and follicle count is analysed through ultra sound.
Clear Pricing with no hidden costs
Our Service is completely FREE to its patients and users. Moreover, we make sure that fertility centres and doctors are committed to providing a transparent pricing structure for all fertility treatments.

Powered By IT ERA